CSIR ने किया हल्की कार्बन फॉम बैटरी का निर्माण

इस हल्की कार्बनफोम बैटरी का प्रयोग लेड (lead) बैटरी की जगह किया जा सकता है । जो इससे सस्ती और विश्वनीय भी होगी ।

इसका प्रयोग ऊष्मा अभिगम (heat sink) ,ऐरोस्पेस में इलेक्ट्रोमैग्नेटिक इंटरफेन्स शील्ड ,लेड एसिड बैटरी के लिए एलक्टरोड के तौर पर और हाइड्रोजन भण्डारन , जल शुद्दीकरण में भी किया जा सकता है।

लाभ :- इसको बनाने में प्रयोग होने वाला कार्बन (कच्चा माल) आसानी से उपलब्ध है। यह तेल, आर्सेनिक, ओर अन्य धातुओं को जल से हटाने में मदद करेगा।

कार्बन बैटरी :- इसको बनाने में प्रयुक्त फोम छिद्रयुक्त होने की वजह से यह बैटरी की गुणवत्ता को बढ़ाता है।

कार्बन बैटरी का अस्तित्व :- दुनिया की पहली कार्बन बैटरी का कारखाना गुजरात में 2011 में खोला गया था ।

Leave a Reply